Tele Show Updates
Latest Written Updates of Indian Television Show

ससुराल सिमर का 20 मार्च 2017 लिखित एपिसोड अपडेट

0 0

दृश्य 1
माताजी कहते हैं कि कुछ खा लो जिससे आप कमजोर हो। सिमर कहते हैं कि इस घर में कुछ भी सही नहीं है। माताजी कहते हैं कि अंजलि अपने घर वापस चली गई। सब कुछ ठीक भी होगा सभी मंदिर जाने की सुविधा देता है पियुष कहते हैं, वादेही, आप भी आते हैं। वधाही कहते हैं, उनमें से कोई भी नहीं चाहता कि मैं आऊँ। मैं नहीं रोशनी कहते हैं कि आप बेहतर समझते हैं कि स्वयं। वाधही कहते हैं, पियुष। सिमर राधा को पूरब से कुछ पूछता है और सोता है जब वे जाते हैं। पियुष कहते हैं कि मैं वडाही के साथ यहां रहूंगा। अमर कहते हैं कि हम आपके पिताजी के लिए प्रार्थना करने जा रहे हैं। सिमर कहती है कि उसे अमर छोड़ दो। वह बहुत ज्यादा हो गया है उसे छोड़ दो अगर वह नहीं आना चाहता है। वे सब छोड़ देते हैं

दृश्य 2
ताओ जी छोड़ रही है विक्रम कहते हैं, कृपया मत जाओ। सरोज कहते हैं कि हम इस घर को कैसे छोड़ सकते हैं। विक्रम कहते हैं कि यह सभी अंजलि की गलती है ताओ जी कहते हैं कि अंजली की गलती नहीं है वह सही है। सरोज का कहना है कि हमें अपना घर क्यों छोड़ना चाहिए? मैं नहीं करूँगा और आपको इस घर को छोड़ने नहीं दूँगा। अंजली में आती है और कहते हैं कि आप सही हैं ताई जी अंजली कहते हैं कि मैं जानता हूं कि विक्रम आपको प्यार करता है। और वह तुम्हें छोड़ना नहीं चाहता है ताओ जी कहते हैं कि यह घर तुम्हारा है और इसी तरह इस घर का भविष्य भी है। विक्रम कहते हैं कि मुझे खुशी है कि आप वापस आए। किसी को भी घर छोड़ना नहीं है अंजली का कहना है कि आप सही हैं यही कारण है कि मुझे बीच का मार्ग मिला। मेरे पास तीन शर्तें हैं। उन्होंने कहा कि पहली शर्त इस घर का विभाजन है। सरोज कहते हैं, क्या आप अपना मन निकाल रहे हैं? अंजली का कहना है कि हम इस घर में एक रेखा खींचेंगे। मेरी दूसरी हालत यह है कि ताई जी फिर से विक्रम से कभी बात नहीं करेंगे। आपने मेरे विवाहित जीवन को बर्बाद कर दिया है और इसलिए यही स्थिति है तीसरा यह है कि मैं अपने जीवन को अपना रास्ता जीना चाहता हूं। मैं जो भी चाहे जो करूँगा, जो कुछ भी पहनूँगा, जहाँ भी मैं जाऊँगा। ताई जी को ऑब्जेक्ट करने का कोई अधिकार नहीं है। क्या आप इन्हें स्वीकार करते हैं? सरोज कहते हैं कि मैं इनमें से कोई भी स्वीकार नहीं करता हूं। मैं कभी ऐसा नहीं होने दूँगा। वह कहता है कि उसने क्या सुना? वह कभी हमें खुशी से नहीं रहने देंगे अंजली कहते हैं कि मेरे पास सभी के उत्तर नहीं थे मैं चाहता हूं कि पापाजी यहां भी उतने ही अच्छे हैं। विक्रम पर्याप्त कृपया कहते हैं उसे यहाँ नहीं लाओ। उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं है। ताओ जी कहते हैं कि मैं इन सभी को स्वीकार करता हूं। विक्रम और सरोज चकित हैं वह कहते हैं कि सरोज जो भी हो रहा है, आप इसके लिए उतना ही ज़िम्मेदार हैं। यदि अंजलि सोचती है कि इससे उसकी शादी ठीक हो जाएगी तो हमें उसके साथ होना चाहिए। विक्रम कहते हैं, कृपया यह मत कहो। अंजली का कहना है कि यदि आप हमारी शादी को बचाने के लिए चाहते हैं तो आपको ये स्वीकार करना होगा। मुझे इस बीच का रास्ता मिल गया है ताकि वह इस घर में रह सकें। वह मुझसे नफरत करती है और कभी भी मेरे साथ खुश नहीं दिखती। वह मेरे साथ नहीं बचेगी, और तब ही शांति होगी। सरोज कहते हैं, कोई विक्रम नहीं। ताओ जी कहती हैं कि अंजली क्या कह रहा है सही है। वह आपके पास सही है और अपनी ज़िंदगी उसके लिए जीने के लिए है मैं उसकी सभी शर्तों को स्वीकार करता हूं आप भी स्वीकार करेंगे मेरे लिए। विक्रम कहते हैं ठीक है।
दृश्य 3
सिमर उसके रास्ते में है वह कहते हैं कि रिपोर्ट अभी तक क्यों नहीं है सिमर बताते हैं कि रोशनी घर पर फोन करती है और पूछती है कि मातजी कैसे हैं? वह घर कहती है रोशनी कहते हैं कि माताजी बेहतर हैं।
अंजली घर में एक रेखा को पेंट करती है विक्रम कहते हैं स्टॉप आप इस रसोई को विभाजित नहीं करेंगे। सरोज कहते हैं कि यह विक्रम छोड़ दें जब सब कुछ विभाजित किया जा रहा है तो रसोई का क्यों नहीं? अंजलि केटी के क्षेत्र में भी रेखा खींचती है वह अब से कहती है कि आप दूसरी ओर रहेंगे और हम इस तरफ। सरज कहते हैं कि आपके पास कुछ महत्वपूर्ण है लेकिन आप इसे विभाजित नहीं कर सकते। मंदिर। परमेश्वर। वह मूर्ति को उठाती है विक्रम कहते हैं, मुझे इसे ले जाना चाहिए। सरोज़ कहता है मुझे आपकी ज़रूरत नहीं है मेरी कमजोर नमूनों को अपने दम पर काम करना सीखना चाहिए। वह अपनी तरफ से मूर्ति लेती है
सरोज ने कहा कि उसने हमें विक्रम से अलग किया है लेकिन संजीव विक्रम के पिता हैं आप चाहते हैं कि वो भी विक्रम से दूर रहें? विक्रम कहते हैं कि ताई जी सही है ताओ जी कहते हैं, लेकिन आपको समस्या होगी। अंजली कहते हैं कि कोई समस्या नहीं होगी। हम पिताजी की देखभाल करेंगे विक्रम ने उनके पक्ष में संजीव लाए। ताओ जी कहते हैं कम से कम हम एक ही छत के नीचे हैं हम एक दूसरे को देख सकते हैं।

प्रीकैप- रोशनी के फोन रिंग्स वह सुन नहीं सकती वह अपनी खुसी बाहर जाती है वह अपनी कार से रोशनी को मार देती है सिमर वापस मुड़ता है। अंजली घर के लिए विभाजन के लिए कागजात लाता है। वह सभी को उन पर हस्ताक्षर करने के लिए कहती है।

Loading...
Loading...